Nav Bar

Thursday, February 15, 2018

मुहब्बत के दरमियाँ


शायद मालूम नहीं है तुम्हें पर सच कहता हूँ जब जब तुमसे मिलने के बाद बिछड़ता हूँ तो विचारों के भंवर में खुद को उलझा हुआ पाता हूँ! मुहब्बत का कोई रूप नहीं होता मगर इसका एहसास ही है जो हमको जोड़े हुए है! महसूस करता हूँ मैं वो हँसी जो तुम्हारे होंठों पर मुझे मिल कर आती है! 
कुछ आरज़ू के तिरपाल हमेशा तुम्हारे इर्द गिर्द मंडराते रहते हैं और लपेट लेते हैं मुझे फिर एक सुकून भरी मुहब्बत के पलों में जहाँ जायका होता है अपनेपन का और साथ ही साथ एक आत्म विश्वास की बेल अपनेआप बढ़ने लगती है! गुमां सा होता है तुम्हें अपने साथ पा कर!  
सुनो, तुम खुले बालों में माथे पर एक छोटी सी बिंदी के साथ बहुत खुबसुरत लगती हो! मैंने बताया नहीं तुम्हें कभी! जानती हो क्यूँ? ये एक एहसास है जो मैं खुद से जोड़ कर रखता हूँ और इत्मीनान से इंतज़ार करता हूँ तुम्हें अगली दफ़ा उस रूप में देखने का और खुद की धड़कनो को तुम्हारी धड़कनों के साथ महसूस करने का! 
तुम यकीन हो मेरा! तुम हो तो मैं खुद में खुद को देख लेता हूँ ! हाँ मैं बड़े बड़े वादे नहीं करता हूँ तुमसे मगर वो वादे जिनकी अपेक्षा तुमने मुझसे की है वो मैंने खुद से किये हैं! 
मैं वैलेंटाइन मनाने वाले आशिक़ों में नहीं हूँ, मैं तो उस बरगद के पेड़ जैसा हूँ जो चाहे कितने तूफ़ान आएं मगर अपनी एक भी टहनी को गिरने नहीं देता है! मैं सर्दियों की शामों में मूंगफली के दानों के लिये हल्का सा झगड़ लेने वालों में से हूँ! जिसे CCD की कॉफ़ी से ज्यादा तुम्हारे साथ कुल्हड़ की चाय पीना पसंद है और भीड़ से भरे मॉल से कहीं दूर शांति से तुम्हारे साथ वक़्त बिताने में सुकून मिलता है!
अधनंगे जिस्मों की नुमाइश तो अक्सर हर मोड़ पर होती है मगर मुझे तो तुम्हारी सादगी पे नाज़ है! 
मैं उन आशिक़ों में भी नहीं जो मुहब्बत को नाम दें, आजमाईश को फरमाइश बना दें या अपने साथी को खुश रखने के लिये कुछ भी कर दें! हाँ मगर मैं उनमें जरूर हूँ जो तुम्हे पूरा करता हो, तुम वक़्त ना दे पाओ तो वक़्त को समझे और जो तुमसे फ़िज़ूल की चीज़ों पर झगड़ा ना करे! 
हाँ मैं कभी तुम्हारे साथ की तस्वीरें फेसबुक या कहीं और शेयर नहीं करता हूँ मगर इतना जरूर विश्वास दिलाता हूँ जहाँ जहाँ मैंने तुम्हारा जिक्र किया है, मैं कल रहूँ या नहीं, उन जगह से तुम कभी हताश नहीं लौटोगे! नाम नहीं जानते वो तुम्हारा मगर इतना जरूर जानते हैं की जिसके साथ मैं खुश हूँ वो कोई खास ही होगी! और मैं ये दावे के साथ कहता हूँ की हमारे रिश्ते की पीठ पीछे भी उतनी ही इज़्ज़त है वहाँ जितनी मेरे सामने!
मुझे गर्व है तुम पर!

- कमल पनेरू

Friday, February 2, 2018

Before the Print (2): Why Should I Love You?



On the very next day when everyone was curious and worried about GATE result, my main concern was the breath of this story. Writing was over and the game began. It had been produced and needed to be baptized. I needed a long break from everything to have it a name. Both of the titles keep nagging my mind each and every minute and later it was named as Why Should I Love You…??? 

FB page helped me a bit to create a small mass over it. Then the era came of rejection. One by one, I approached some twenty or more publishers, but most of the results were common – not selected.
Meanwhile, I had joined an IT company in Noida as a writer. Life of Delhi–NCR gave a new expose to my thoughts. I revisited my manuscripts and did some amendments in order to polish the manuscript. The story was/is about love and betrayal; hereby, another name Love Blister hit my mind. Previous rejection sucked my patience but I kept trying. Meanwhile, plenty of self-publishing organisations showed interest on it; but I really was in no mood to go for self-publishing as was completely unaware of market scenario. I wanted a publishing house to adopt this baby and look after under their shelter.

Then, a publisher from Bengaluru showed their interest in it; they were ready to publish it under their name. Quite happy I was, I quickly coordinated with them and had NOC. A person who is strong of words would surely fall in front of terms and conditions. I was among those people and chose not to go with them. While the story was having shower of rejections and it got a shelter, I snatched it back to have battle further. After few days, again one by one, seven more publishers showed their interest in it. Meanwhile, I kept editing it to make perfect and ignoring the offers. A year had been passed when Half Baked Beans Publisher accepted it and ensured me that they will publish if after two year -- 2017.
I was done. I forwarded it to their shelter and relaxed. Now I had two years to add and delete words in it with the item. Yeah, many times I read it as third person I found few instances very beautiful and could not believe that it was only I behind it.

Up to the year 2017, it had been of 53000 words. I had deleted prologue and increased the length of epilogue in order to do proper justice with all the characters of the story.
With reading plenty of novels, I came to know this factor and also focused on better ending.

A story that started in the summer of 2011 was going to be published in the summer of 2017. Six years… a span of six years. A story that started during time of Orkut is being discussed somewhere in the posts of Facebook. A story that was facing rejections is now available on ecommerce websites. Why Should I Love You…??? is alive now and with the blessings of readers, always will be.

There are ample of instances that I did not discuss here; not that I could not dare, but few secrets are not be revealed.

© Kamal Paneru

Tuesday, January 30, 2018

Before the Print (1): Why Should I Love You?


Well, it was summer of 2011 when I had started it thinking no end. At that time I was not having laptop, thus each word on paper. I set the targets of daily writing and soon found that my notebook of some 100 pages filled. I looked it and it made me so happy and that finally I had written a manuscript of 100 pages. But that was not enough, it was still lacking end. I kept thinking for two months to add an end in it. Meanwhile, story jumped to next notebook and continued longer. Up to January of 2012, it had been some 175 pages and story was taking a turn. I was inserting new words daily after analysing and thinking many things at a time.

Meanwhile, excitement was on peak and I had spread news among all that I was about to finish the novel. I was quite confident about it. I knew content was quite better and there was no need of additional modification in it. I was sure that Srishti or any publisher will easily publish it under their name. It was only my curiosity that without completing it, I wrote a mail to Srishti Publisher; I had copied that email id from the front matter of book If I Pretend I Am Sorry, Will You Pretend and Forgive Me? by Prashant Sharma. That book was amazing one even I found it better than The Three Mistakes of My Life of Chetan Bhagat. In my very first mail to Srishti Publisher I had raised a query about how to publish it with them. They had replied there few conditions including word count between 40,000 and 50,000. I analysed my story, it was of something 60,000 words after finished. I shoot my next mail asking what if exceed word count 50,000. And in turn, I did not receive any reply from them.

Once when at home and thinking about the characters introduced in the story, I concluded that the story that is written up to 154 pages is completely illogical and is not what I had to write.
On page 155, there was the first word of this current story. Now I had been sincere towards it; I was not eager to finish it but put the depth of reading and literature in it. Gradually, I fuelled it again and breathed its soul. Soon days then months and then another year passed and it appeared matured. Story was growing gradually. Later, in June 2013 when I purchased a laptop for me, I continued the story on it. Meanwhile, I had thrown away those 154 pages of story which never saw any readers except me. Even I did not want anyone to read those pages so I burnt those pages and stood there until fire died into ashes.

It took me a bit time to set my fingers on the soft keyboard but soon we became friend. Now I had end of the story in mind but the thing I was not having was time. Yeah, I was quite busy preparing for GATE 2014. When I appeared for GATE 2014 on 9 February, I decided to prioritise the completion of the story. Meanwhile, I was confused about its title. There were two titles in mind. One was Why Should I Love You? and other one was Innocent Girl of Mine. This mystery continued so long. I dedicated much of my time to it and then it was 10:30 pm of 17th April 2014, when I came to know that I had been failed in GATE Examination. I had secured only 17 marks out of 100 in General category. I was sad about it but they say you are strong in words when you are disappoint, so I was. I went to my room, closed it and switched on my laptop. My fingers were running so fast on it as never been. I kept typing without blinking my eyes and words continued falling in my mind. Each line was connecting each other and bringing story towards its end. I had been sure that this night would be special to me. I knew today I would put the last word of the story.

There was no pain in my fingers but a fire, a fire of emotions. I could see flakes of all characters appearing in front of my eyes. It seemed all characters were weeping in front of me and asking me not to end the story to let them live their live. There cry was beating the silence of that night. But I was cruel; I decapitated their wish and did not hear anything except my mind.

And then, it was 3:09 am at night when I wrote the last word of this story. My fingers wanted a rest, my mind had been tired, my heart swallowed, but I had peace now. A story which I had started some three years ago in 2011 had been over with some 47,000 words.
...To be continued
Kamal Paneru
Author WSILY?

Monday, January 22, 2018

बसंत की एक शाम

आज अंतर्मन में द्वन्द युद्ध चल रहा है! सवालों और चिंताओं की जैसे लड़ी लग गयी हो! कहीं एक शायरी सुनी थी कभी की ना शब्-ए-रोज़ अच्छा है ना हाल अच्छा है, किसी ने कहा था ये साल अच्छा है! आज वही शायरी फिर फिर कानों में गूँज रही है! सुबह से सैकड़ों SMS आ चुके हैं बसंत पंचमी की बधाई के, मगर किसी ने पूछना जरुरी नहीं समझा की मेरा हाल क्या है! एक कश्मकश में जूझ रहा हूँ मैं आज! कल रात कुछ भयानक सपनों ने डरा कर जगा दिया था मुझे! फिर सारी रात सो ही कहाँ पाया मैं! सोचा तुमसे बात करुँ फिर लगा की तुम सुकून की नींद सोये होंगे, जगाना ठीक नहीं होगा! आखिर मेरी ख़ुशी तुम्हारे सुकून पर ही तो टिकी हुई है! आज ऑफिस में बॉस से भी कुछ अनबन हो गयी, बात इतनी बढ़ गयी की बॉस ने मुझे रिजाइन देने को कह दिया! अचानक ये सुन कर टूट सा गया था मैं! हताश सा अपनी कुर्सी पर बैठे हुए अपने इस ऑफिस को दिए पिछले दो सालों के रोज के आठ घंटे याद कर रहा था! कहीं डूबा हुआ सा था मैं अपने इस बवंडर में कि अचानक फ़ोन के vibration ने मेरे अतीत के आईने को तोड़ते हुए मुझे झंझोर दिया! देखा तो तुम्हारा मैसेज था, तुम नाराज़ थी मुझसे, तुमसे नाराज़गी जाहिर की थी अपनी! हो भी क्यों ना, मैं वक़्त ही कहाँ दे पा रहा था तुम्हें! खुद में उलझा हुआ था मैं! मैंने तुम्हे फ़ोन लगाया और अपने अट्टहासों के पीछे अपने ऑफिस की बात को छुपा लिया! मैं परेशां इसलिए नहीं था की जॉब जा रही है, मैं परेशां इसलिए था की जिम्मेदारियों की बेल मुझपे एक अरसे से लिपटी हुयी हैं! मैंने तुम्हे बहुत मानना चाहा, तुम टालते रहे! जब फ़ोन रखा तो मेरे चेहरे पे एक चमक थी की मैंने तुम्हारी आवाज़ सुनी! मगर वक़्त इतनी जल्दी करवट लेगा ये कहाँ मालूम था मुझे! कुछ ही पलों में मुझे तुम्हारा एक और SMS मिला।
Tum bht ache insan ho ..BHT BHT BHT ache ....bht helping bhi ho or caring bhi. .isme koi doubt nhi h..bt mjhe nhi lgta ki tum mjhe khush rkh paoge, shyd nhi bn payegi yr hmari... shyd mjhme bht expectations Hain or tum nhi KR paoge yr meri expectations Puri...

मैं सर से पैर तक काँप गया था, मैंने कभी ऐसे उम्मीद नहीं की थी! तुम तो मेरा मनोबल थी ना! चंद रोज़ मैं तुम्हे वक़्त ना दे सका तो तुमने मेरे होने पर और मेरी मुहब्बत पर शक कर लिया! मेरे दोस्त मुझे तेरे नाम से चिढ़ाते हैं, तेरी कसमें दे कर हर काम करवा लेते हैं! उन्हें मना नहीं कर पता हूँ मैं कभी क्यूंकि मेरी बेल तो तुमसे लिपटी है ना!
तुमने मेरे हौसले पस्त कर दिए थे आज! मेरी भावनाओं को आज पहली बार ठेस पहुंची थी!  अमलताश के फूल देखे हैं तुमने कभी? जबसे भगवन कृष्ण का श्राप मिला है, तब से हमेशा अपनी डाली से बहुत दूर गिरे हुए मिलते हैं! आज मैंने उन फूलों में खुद को और उस डाली में तुमको देखा! जैसे तुमने मुझे खुद से बहुत दूर फेंक दिया हो! यहाँ कोई कृष्ण का श्राप नहीं था, यहाँ वक़्त का तकाज़ा था! यहाँ भावनाओं के भंवर थे जिनमें तुमने मुझे डूबा दिया था!
एक अर्से से इन आँखों ने आंसू नहीं पिये थे! आज वो अर्सा ख़तम हो गया! जी चाह रहा था की टूट कर रोया जाये आज, मगर ऑफिस के माहौल ने इजाजत ना दी! अपनी बाइक की चाभी पकड़ी और निकल गया बहार ऑफिस से! आज मुझे ट्रैफिक में फसने या किसी दुर्घटना का डर नहीं था! आज गाड़ियों के हॉर्न से ज्यादा तेज़ मेरे दिल की धड़कने थी!
तुम तो अक्सर कहा करती थी की तुम सिर्फ मेरी हो, तो मेरी तकलीफ क्यों नहीं महसूस करी तुमने? क्यों नहीं पूछा की मेरा हाल कैसा है? प्यार तो त्याग का नाम है, तुमने ये शर्तें क्यों रख दी?
मैंने तुम्हे कुछ नहीं कहा और शायद कहने को कुछ बचा भी नहीं था! पिछले १० सालों से तुम साथ हो तो क्यों आज तुमने ये फैसला कर लिया की मैं तुम्हारी उम्मीदों और सपनों को पूरा नहीं कर सकता? क्या इतना ही जाना तुमने मुझे? मेरी काबिलियत पर यकीन नहीं था क्या तुम्हें? याद करो ना, क्या मैंने कभी कोई शर्त रखी है प्यार में?
मुझे अब भी याद है जब तुमने कहा था की मैं तुम्हें जैसे भी रखूँ  तुम  किसी भी हाल में खुश रहोगे, तो क्यों तुम ये दूरी बर्दाश्त नहीं कर पायी? कल ही तो मैंने तुमसे फ़ोन पर बात की थी, मिलने का वक़्त नहीं हो पाया मुझे तो मैं क्या करुँ?
मुहब्बत मजाक है क्या? शब्दों में बयान करूँगा तब ही समझोगे क्या? मुहब्बत तो महसूस की जाती है, किसी के होने भर के अहसास से सुकून मिल जाता है! मैं चाँद रोज़ ना मिल पाया तो तुमने ये कदम उठा लिया, तब क्यों नहीं सोचा जब यहां से सैकड़ो मील दूर जॉब की तलाश में चली गयी थी तुम? तब क्यों नहीं सोचा तुमने मेरे बारे में की मैं अकेले कैसा रहूँगा?
घर पर वो इंतज़ार कर रही थी मेरा जिसे मैं सुबह छोड़ आया था अकेला! उसने चेहरा पढ़ कर ही मुझसे गले से लगा लिया! आज फिर से पुरानी यादें ताज़ा करेंगे हम दोनों, बाहों में बाहें डाले सुनेंगे एक दुसरे को! तुम्हारे बाद एक यही तो है जो सुनती है मुझे इत्मीनान से! ये कुछ पूछती नहीं है, बस महसूस कर लेती है मेरी उदासी! मेरी तन्हाई हमसफ़र ही हो गयी है मेरी! सुनो, मैं तुम्हारी शिकायत नहीं करूँगा इससे! बहला दूंगा इसे अपनी जॉब की बातों से! तुम बेफिक्र रहो, अगर बताया भी तो ये किसी को बताएगी नहीं। ये घर से बाहर अक्सर नहीं जाती है! मुझे इस पर उतना ही भरोसा है जितना तुम पर!
मुझे अपनी जॉब जाने की इतनी तकलीफ नहीं हुई जितना तुम्हारा ये SMS पढ़ कर!
मैं अपनी सफाई में कुछ नहीं कहूंगा! शायद तुम्हारा निर्णय सही भी है! मैं नहीं कहूंगा की हाँ मैं तुम्हारी हर ख्वाहिश पूरी करूँगा मगर इतना जरूर कहूंगा की मुझे मुहब्बत सिर्फ तुम्हीं से है! सिर्फ तुम्ही से! साथ में एक प्रार्थना है तुमसे की please अब ये बोल कर वापस मत आना की मजाक कर रहे थे!
शायद यही है मेरी ज़िन्दगी का बसंत!

Saturday, December 30, 2017

छोड़ के चले



हम बचपन नादान छोड़ के चले
पिताजी का बनाया पुराना मकान छोड़ के चले
लगा जब शौक जवानी में मुहब्बत का
हम हर मेहमान छोड़ के चले
रही आँखें उम्र दराज़ रास्तों में टिकी हुई
गली दर गली उसका मकान छोड़ के चले
किसी फ़कीर ने कहा था नेकी कर दरिया में डाल
हम हर सलाह-ए-जान छोड़ के चले
कुछ सामान रखा जेबों में
हम ज़िन्दगी का नफा नुक़सान छोड़ के चले
बुलाती रही अपने शहर की गलियाँ बहुत हमें
मगर अपनों को परेशान छोड़ के चले
एक धुन थी खुद को आज़माने की
हम माँ के सपनों  श्मशान छोड़ के चले
जुबान काँप जाती है जेहन में नाम उसका आते ही
किनारे का भरोसा दे कर जिसे बीच रेगिस्तान छोड़ के चले
पुरखो ने सिखाया नमाज़ों में होती है दुआ क़ुबूल अक्सर
हम मस्जिद में अज़ान छोड़ के चले
इक ठोकर ही काफी थी ज़माने की ज़िन्दगी समझने को
वापिस घर को इसका मैदान छोड़ के चले

hum bachpan nadan chhor ke chale
pitaji ka banaya purana makaan chhor ke chale
laga jab shauk jawani me muhabbat ka
hum har mehmaan chhor ke chale
rahi aankhein umr daraaz rastho me tiki hui
gali dar gali uska makaan chhor ke chale
kisi fakeer ne kaha tha neki kar dariya me daal
hum har salaahe-jaan chhor ke chale
kuch keemti samaan rakha jebo me
hum zindagi me nafa nuksaan chhor ke chale
Bulati rahi apne sheher ki galiyaan bahut humein
magar apno ko pareshaan chhor ke chale
ek dhun thi khud ko aazmaane ki
hum maa ke sapno ko shamshaan chhor ke chale
jubaan kaanp jaati h jehen me naam uska aate hi
kinare ka bharosa de kar jise beech registaan chhor ke chale
purkho ne sikhaya namazo me hoti hai dua qubul aksar
hum maszid me azaan chhor ke chale
ik thokar hi kafi thi zamane ki zindagi samjhne ko
wapis ghar ko iska maidaan chhor ke chale

- Kamal Paneru

Last poem in 2017

Saturday, October 7, 2017

You Will Always Be in My Dreams

To the one who can handle me at my worst and cheer me at best

we got separated yesterday.
She had tears in her eyes
I had pain in my heart
She told 'I love you so much'
I thought 'nobody would love you as I'
She told 'it seems you dont love me'.
I closed my eyes.
She told 'I want to leave'.
I wished if she asked what I wanted
She told 'I will miss you daily'
I expressed with my eyes 'I will more than that'
She said 'promise me, you will take care yourself'
I heard her name in my heartbeat
She showed her diary full of her time with me
I couldn't show the unpublished manuscript of 273 pages based on her
She told how she spent time without me
I smiled thinking name we had decided for our first baby
She waved bye
I hugged her last time
She decapitated words inside her
I thought if it were a dream.
She kept looking the way until I disappeared
I wished she stop me.
She had said 'I will miss you daily'
Now, I get hiccups daily
And strive to publish those now 412 pages.

- Kamal Paneru (Kani)

Thursday, October 5, 2017

अफसाना


अठखेलियाँ करती हुई तुम्हारी यादों की बारिश की कुछ बूँदें
सहसहा टकरा गयी मेरे अंतरमन के किवाड़ों से
मैं एक पल पहले झूमती हुई सी बिखर गयी अगले पल में
बुदबुदाते हुए होठों से फिर मैंने नाम लिया तुम्हारा
और तुम्हारी तस्वीर को सीने से लगा बैठी
अतीत की परछाइयों में कुछ ऐसी खोयी मैं
की खुद की सुधबुध ही भूल बैठी
की तुम्हारा मेरा हाथ पकड़ कर सड़कों में साथ चलना
एक अपनेपन का एहसास करा देता था
तुम्हारे साथ सदियों को चंद लम्हों में बिता लेना
एक अजब सा जादू महसूस होता था तुम्हारी आवाज़ में
कुछ भी तो नहीं भूली हूँ मैं आज भी
वही तुम्हारी बेबाकी, मुझे मीठा सा छेड़ जाना
नजरें बचा कर मुझे इत्मीनान से पहरों तक देखना
नहीं हो साथ फिर भी साथ होने का यकीन दिलाना
मुझे याद है तुम्हारा हर पल को हसीं बनाना
तुम्हारे चले जाने के बाद से
ये घर भी मकान हो गया है
कुछ भूले भटके तुम्हारे लहज़े और सलीके
और कुछ तुम्हारे लौट आने की चरमरायी सी उम्मीदों की दीवारों पर
टिका हुआ है मेरे दिल का सुकून

- कमल पनेरू